कोलकाता : आजकल शादी विवाह के लिए सही जोड़े की तलाश बेहद मुश्किल हो गई है। इस समस्या से हर माता-पिता गुजर रहे हैं। परिजनों की इस समस्या के सामाधान स्वरूप पश्चिम बंग प्रादेशिक मारवाड़ी सम्मेलन ने पवन पुत्र होटल में गुरुवार को एक ऐप लॉन्च किया। इस ऐप के माध्यम से मारवाड़ी समाज के बेटे-बेटियों की शादी आसान हो जाएगी। जी हाँ, ऐप पर जानकारी देने के साथ ही सम्मेलन की सेंट्रल टीम आपके बेटे या बेटी की प्रोफाइल के अनुसार और आपके दिए गए मानदंडों के अनुसार संभावित जोड़े का चुनाव कर आपसे सम्पर्क करवाने में मदद करेगा।

Advertisement

इस नायाब पहल का नाम www.marwarivivaah.com रखा गया है। इस ऐप पर सम्मेलन के राज्यभर में मौजूद शाखाओं के माध्यम से लोग अपने बच्चों की प्रोफाइल के साथ सम्पर्क कर सकते हैं।

इस पहल की घोषणा के दौरान पश्चिम बंग प्रादेशिक मारवाड़ी सम्मेलन के अध्यक्ष नंद किशोर अग्रवाल, ऑल इंडिया मारवाड़ी सम्मेलन के सचिव संजय हरलालका, विवेक अग्रवाल, मनमोहन बागड़ी, पवन जालान, नितिन अग्रवाल, मोहित अग्रवाल, अनिल डालमिया, अंकित झुंझुनवाला, दीपक खेतावत, प्रमोद गोयनका, दीपक बंका, संजय अग्रवाल, विवेक अग्रवाल, अमित अग्रवाल, श्रवण खेतावत, विजय शंकर अग्रवाल, पारस अग्रवाल समेत अन्य लोग मौजूद थे। वहीं वर्चुअल माध्यम से राज्य के विभिन्न जिलों से सम्मेलन के प्रतिनिधि इस कार्यक्रम में शामिल थे, जिनमें सम्मेलन के भूतपूर्व अध्यक्ष संतोष सराफ भी शामिल थे।

नंद किशोर अग्रवाल ने सम्मेलन की इस पहल पर खुशी जाहिर करते हुए भविष्य की योजनाओं से सभी को अवगत करवाया और आने वाले समय में समाज के बच्चों के लिए यूपीएससी की तैयारी करवाने संबंधी जानकारी सभी के साथ साझा की।

संजय हरलालका ने कहा कि यह पहल सम्मेलन की ओर से देर से की गई है लेकिन यह सराहनीय कार्य है। उन्होंने यह भी कहा कि समाज कल्याण की यह पहल केवल बंगाल तक सीमित न रहे बल्कि इसे अखिल भारतीय स्तर पर ले जाने पर विचार किया जाना चाहिए ताकि इससे समाज के ज्यादा से ज्यादा लोग लाभान्वित हो सकें।

ऐप को बनाने वाले मुकेश अग्रवाल ने कहा कि सम्मेलन की प्रत्येक शाखा में एक व्यक्ति को इसकी जिम्मेदारी सौंपी जाएगी, जिसके माध्यम से शादी वाले बच्चों की जानकारी ऐप पर अपलोड की जाएगी। इसके बाद कोलकाता में मौजूद सम्मेलन की सेंट्रल टीम लोगों की पसंद के अनुसार प्रोफाइल का चयन कर उनके साथ साझा करेगी ताकि शादी की बात आगे बढ़ सके और इस ऐप का मकसद भी पूरा हो सके। उन्होंने यह भी कहा कि ऐप में अपलोड की गई सारी जानकारियाँ गोपनीय रखी जाएँगी और सम्पूर्ण डाटा का एक्सेस केवल और केवल सेंट्रल टीम के पास ही रहेगा।

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here