कोलकाता : पिछले सात दिनों में 73 हजार से अधिक नए कोरोना मामले दर्ज किए जाने के बाद, ऐसी अटकलें लगाई जा रही हैं कि पश्चिम बंगाल में पूर्ण लॉकडाउन लग सकता है। कोलकाता में पहले ही सूक्ष्म-नियंत्रण क्षेत्रों को चिह्नित कर वहां गतिविधियां सिमित की गई हैं। पूरे राज्य में आंशिक लॉकडाउन पहले ही लग चुका है। अब सरकार में शामिल एक अधिकारी ने बताया कि कोरोना वृद्धि को रोकने के लिए पूर्ण लॉकडाउन लागू किया जा सकता है।

Advertisement

पिछले साल जब कोरोना की लहर पीक पर थी तब 14 मई को सर्वाधिक 20 हजार 836 मामले सामने आए थे। अब इस साल एक दिन पहले शुक्रवार को 18 हजार 213 लोग संक्रमित हुए थे जो दूसरी लहर में सर्वाधिक संक्रमण के करीब है।

विशेषज्ञों की राय है कि अगर संक्रमण चेन को तुरंत नहीं तोड़ा गया तो दैनिक मामलों की संख्या एक दो दिनों के भीतर रिकॉर्ड तोड़ सकती है।

पिछले 10 दिनों में मामलों की वृद्धि राज्य के लिए और अधिक चिंताजनक है। 4 जनवरी को, कोरोना पीड़ितों की संख्या 9073 थी, जो दो दिनों के भीतर दोगुनी हो गई।

1 जनवरी को पीड़ितों की संख्या सिर्फ 4,512 थी, लेकिन अगले सात दिनों में आंकड़ा 73,412 को छू गया, जिससे राज्य प्रशासन के लिए वास्तविक चिंता पैदा हो गई।

वायरस के तेजी से बढ़ने पर अंकुश लगाने के प्रयास में, राज्य सरकार ने पहले ही कंटेनमेंट जोन की घोषणा की है ताकि उच्च संक्रामक क्षेत्रों से लोगों को मुख्यधारा के क्षेत्रों में आने से रोका जा सके।

अब तक स्थानीय प्रशासन ने 48 माइक्रो कंटेनमेंट जोन घोषित किए हैं जिनमें से 28 कोलकाता के सैटेलाइट टाउनशिप बिधाननगर में हैं।

हालांकि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि राज्य सरकार पूर्ण लॉकडाउन के खिलाफ है क्योंकि इससे आम लोगों का जीवन प्रभावित होता है, लेकिन हाल ही में उन्होंने संकेत दिया कि राज्य सरकार सख्त प्रतिबंधों पर विचार कर रही है।

न केवल कोलकाता और उसके आसपास के इलाकों में, बल्कि स्थानीय प्रशासन ने कई अन्य क्षेत्रों में आंशिक रूप से लॉकडाउन कर दिया है।

दक्षिण 24 परगना, हावड़ा, हुगली, जलपाईगुड़ी, नदिया और उत्तर 24 परगना के स्थानीय प्रशासन ने सप्ताह में तीन दिन सम्पूर्ण लॉकडाउन की घोषणा की है।

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here