अब हाई कोर्ट पहुंचे प्राथमिक शिक्षक, योग्यता के बावजूद नौकरी से वंचित करने का आरोप

288
Calcutta High Court
कलकत्ता हाई कोर्ट

कोलकाता : पश्चिम बंगाल में शिक्षकों की नियुक्ति में धांधली के आरोपों की कड़ी बढ़ती ही जा रही है। अब प्राथमिक शिक्षकों के संगठन ने हाई कोर्ट में एक जनहित याचिका कर दावा किया है कि योग्यता के बावजूद राज्य सरकार ने उन्हें नौकरी से वंचित किया है।

Advertisement

सोमवार को इस याचिका पर हाई कोर्ट में न्यायमूर्ति अमृता सिन्हा के पीठ में सुनवाई हुई और अधिवक्ता के तौर पर श्रीरामपुर से तृणमूल कांग्रेस के सांसद कल्याण बनर्जी ने याचिका की ओर से राज्य सरकार के खिलाफ पक्ष रखा। सांसद का इस मामले में पक्ष रखना इसलिए भी महत्वपूर्ण है, क्योंकि वह हाल में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी के नेतृत्व पर सवाल खड़ा कर चुके हैं।

याचिकाकर्ताओं का आरोप है कि 2004-05 वर्ष में उन्होंने प्राथमिक शिक्षक के तौर पर नियुक्ति के लिए परीक्षा दी थी। इन सभी ने पीटीआई से प्रशिक्षण भी लिया है। उनके पास सारे दस्तावेज और प्रमाण पत्र भी हैं। आरोप है कि पीटीआई से प्रशिक्षित शिक्षकों को अतिरिक्त 22 नंबर दिया जाता है लेकिन उनके मामले में राज्य सरकार ने ऐसा नहीं किया है। दोनों पक्षों को सुनने के बाद कोर्ट ने प्राथमिक शिक्षा परिषद को नोटिस जारी करते हुए आगामी चार सप्ताह के भीतर जवाब देने को कहा है।

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here