नौसेना की ‘किलर स्क्वाड्रन’ को मिला ‘राष्ट्रपति मानक’ का सर्वोच्च सम्मान

269
– राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद को मुंबई के नेवल डॉकयार्ड में दिया गया गार्ड ऑफ ऑनर
– डाक विभाग ने एक स्मारक डाक टिकट के साथ विशेष दिवस कवर भी जारी किया
नयी दिल्ली : भारतीय सैन्य बलों के सर्वोच्च कमांडर और राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने बुधवार को मुंबई के नेवल डॉकयार्ड में आयोजित एक भव्य कार्यक्रम में 22वीं मिसाइल वेसल स्क्वाड्रन को राष्ट्रपति मानक प्रदान किया। इसे ‘किलर स्क्वाड्रन’ के रूप में भी जाना जाता है। इस मौके पर उन्हें गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया और डाक विभाग ने एक स्मारक डाक टिकट के साथ विशेष दिवस कवर भी जारी किया। ‘राष्ट्रपति का मानक’ राष्ट्र को प्रदान की गई सेवा को चिन्हित करने के लिए सैन्य इकाई को दिया जाने वाला सर्वोच्च सम्मान है।
भारत के तत्कालीन राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद ने 27 मई 1951 को भारतीय नौसेना को ‘प्रेसिडेंट कलर’ से सम्मानित किया था। राष्ट्रपति का मानक भी ‘प्रेसिडेंट कलर’ के बराबर का ही सम्मान है, जो अपेक्षाकृत छोटे सैन्य गठन या इकाई को दिया जाता है। 22वीं मिसाइल वेसल स्क्वाड्रन को औपचारिक रूप से अक्टूबर, 1991 में मुंबई में दस वीर क्लास और तीन प्रबल क्लास मिसाइल नौकाओं के साथ स्थापित किया गया था। इसे ‘किलर स्क्वाड्रन’ के नाम की पहचान 1969 में मिली जब इसमें भारतीय नौसेना की ताकत को बढ़ाने के लिए रूसी ओएसए आई क्लास मिसाइल की नौकाओं को शामिल किया गया।
इन मिसाइल नौकाओं को भारी लिफ्ट वाले व्यापारी जहाजों से भारत लाकर 1971 की शुरुआत में कोलकाता में कमीशन किया गया।
Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here