क्या यही स्वतंत्र और निष्पक्ष नगर निगम चुनाव है : अमित मालवीय

221
अमित मालवीय

कोलकाता : भारतीय जनता पार्टी के आईटी सेल के प्रमुख और प्रदेश बीजेपी के सह-प्रभारी अमित मालवीय ने भाजपा उम्मीदवार ब्रजेश झा से पुलिस की हाथापाई को लेकर मुख्यमंत्री और अभिषेक बनर्जी को आड़े हाथों लिया।

Advertisement

दरअसल, तृणमूल कांग्रेस के अखिल भारतीय महासचिव अभिषेक ने पहले कहा था कि मतदान शांतिपूर्ण, स्वतंत्र और निष्पक्ष होना चाहिए। त्रिपुरा में नगर निकाय चुनाव में जो किया गया, वह बंगाल में नहीं होगा। इस पर पलटवार करते हुए मालवीय ने एक वीडियो पोस्ट करते हुए ट्विटर पर लिखा, ‘क्या यह एक स्वतंत्र और निष्पक्ष निगम चुनाव है? यहां कोलकाता पुलिस को सात नंबर वार्ड से भाजपा उम्मीदवार ब्रजेश झा के साथ मारपीट करते देखा जा सकता है। वे किसके इशारे पर भाजपा उम्मीदवारों को डरा रहे हैं? गृहमंत्री ममता बनर्जी या उनके भतीजे, कौन हैं अब सुपर सीएम? पश्चिम बंगाल चुनाव आयोग और न्यायालयों को ध्यान देना चाहिए।

रविवार को अमित मालवीय ने कई ट्वीट कर साथ वीडियो पोस्ट किए। मालवीय ने एक वीडियो शेयर करते हुए ट्विटर पर लिखा कि हाई कोर्ट ने नगर निगम चुनाव के लिए सभी मतदान केंद्रों पर सीसीटीवी कैमरे लगाने का आदेश दिया था लेकिन तृणमूल कांग्रेस के गुंडों ने उन पर स्टिकर चिपका दिए गए। पश्चिम बंगाल राज्य चुनाव आयोग इस कदाचार और इसके परिणामस्वरूप चुनावों में धांधली के प्रयास को रोकने के लिए क्या कर रहा है? यह कोर्ट के आदेश की अवहेलना की जा रही है। उन्होंने एक वीडियो शेयर करते हुए दूसरे ट्वीट में लिखा कि भाजपा बूथ एजेंटों को तृणमूल कांग्रेस के गुंडों द्वारा धमकाया और डराया जा रहा है। कोलकाता पुलिस मूकदर्शक बनी हुई है। अब सियालदह स्टेशन के ठीक बाहर एक बम विस्फोट हुआ, जो कोलकाता के बीचों-बीच है। चुनाव का बनाया जा रहा है मजाक।

इसके अलावा उन्होंने फर्जी वोट का आरोप लगाते हुए लिखा कि वार्ड 87 की भाजपा उम्मीदवार अनुश्री चटर्जी ने फर्जी मतदाता को पकड़ा है। भाजपा यहां पिछले कई चुनाव में जीत चुकी है। पश्चिम बंगाल में राज्य चुनाव आयोग कहा है? उन्होंने मीना देवी पुरोहित पर तृणमूल कांग्रेस के कथित गुंडों के हमला करने का आरोप लगाया। उन्होंने लिखा कि पांच बार भाजपा पार्षद और पूर्व डिप्टी मेयर रह चुकीं मीना देवी पुरोहित पर तृणमूल के गुंडों ने हमला किया, उनके कपड़े फाड़ दिए गए। कोलकाता पुलिस, जो सीधे गृह मंत्री ममता बनर्जी के अधीन है, वह केवल मूकदर्शक बनी रही। पश्चिम बंगाल में कोई महिला सुरक्षित नहीं है।

अमित मालवीय ने वार्ड नम्बर 22 में पोलिंग बूथ पर तृणमूल के कथित गुंडों पर हमला करने का आरोप लगाया कि वार्ड 22 में पोलिंग बूथ को तृणमूल कांग्रेस के गुंडों ने पूरी तरह से क्षतिग्रस्त कर दिया और भाजपा कार्यकर्ताओं पर हमला किया। उन्होंने ईवीएम मशीन को भी तोड़ने का आरोप लगाते हुए कहा कि कोलकाता पुलिस गायब है तो चुनाव आयोग के अधिकारी भी। अच्छा किया, ममता बनर्जी। ऐसा लगता है कि त्रिपुरा के अपमान का दुःख हो रहा है।

उल्लेखनी है कि आज कोलकाता नगर निगम के सभी 144 वार्डों में मतदान के दौरान विपक्षी भाजपा तथा तृणमूल कांग्रेस कार्यकर्ताओं के बीच कई जगहों पर झड़प हुई है। इसे लेकर अमित मालवीय ने मतदान में गड़बड़ी और धांधली का आरोप लगाया है।

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here