– योगेश कुमार गोयल            देश की बालिकाओं को उनके अधिकारों के प्रति जागरूक करने तथा समाज में बालिकाओं के साथ होने वाले भेदभाव के बारे में बालिकाओं के साथ-साथ समस्त देशवासियों को भी जागरूक करने के उद्देश्य से प्रतिवर्ष 24 जनवरी को ‘राष्ट्रीय बालिका दिवस’ मनाया जाता है। एक समय ऐसा था, जब अधिसंख्य परिवारों में बेटी को परिवार पर बोझ समझा जाता था और इसीलिए बहुत सी जगहों पर तो बेटियों को जन्म लेने से पहले ही कोख में ही मार दिया जाता था। यही कारण था कि बहुत लंबे अरसे तक लिंगानुपात बुरी तरह गड़बड़ाया रहा। अगर बेटी का जन्म हो भी जाता था तो उसका बाल विवाह कराकर उसकी जिम्मेदारी से मुक्ति पाने की सोच समाज में समायी थी।

Advertisement

आजादी के बाद से बेटियों के प्रति समाज की इस सोच को बदलने और बेटियों को आत्मनिर्भर बनाकर देश के प्रथम पायदान पर लाने के लिए अनेक योजनाएं बनाई गई और कानून लागू किए गए। उसी का नतीजा है कि अब बालिकाएं भी हर क्षेत्र में बेटों के साथ कंधे से कंधे मिलाकर राष्ट्र के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दे रही हैं।

बालिका शिक्षा के महत्व, उनके स्वास्थ्य तथा पोषण के बारे में जागरूकता फैलाने और बालिका अधिकारों के बारे में समाज को जागरूक बनाने के लिए वर्ष 2008 में बाल विकास मंत्रालय ने हर साल 24 जनवरी को राष्ट्रीय बालिका दिवस मनाए जाने का निर्णय लिया। पहली बार साल 24 जनवरी 2009 को देश में राष्ट्रीय बालिका दिवस मनाया गया। 24 जनवरी को ही यह दिवस मनाए जाने की शुरूआत के पीछे प्रमुख कारण यही था कि वर्ष 1966 में इसी दिन आयरन लेडी के रूप में विश्वविख्यात हुई इंदिरा गांधी भारत की पहली महिला प्रधानमंत्री बनी थीं।

प्रतिवर्ष राष्ट्रीय बालिका दिवस के लिए एक थीम का निर्धारण किया जाता है और इस वर्ष की थीम है ‘बेहतर भविष्य के लिए लड़कियों को सशक्त बनाना’। बालिका दिवस की वर्ष 2021 की थीम थी ‘डिजिटल पीढ़ी, हमारी पीढ़ी’ जबकि 2020 में ‘मेरी आवाज, हमारा समान भविष्य’ थीम बालिका दिवस के लिए निर्धारित की गई थी।

बालिकाओं की स्थिति में सुधार लाने के लिए आजादी के बाद से ही सरकारों ने निरन्तर कदम उठाए हैं। समाज में लड़का-लड़की के भेदभाव को खत्म करने के उद्देश्य से ही बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ, लड़कियों के लिए मुफ्त अथवा रियायती शिक्षा, कॉलेजों तथा विश्वविद्यालयों में महिलाओं के लिए आरक्षण जैसे अनेक अभियान और कार्यक्रम शुरू किए गए। ऐसे ही प्रयासों का नतीजा है कि आज लगभग हर क्षेत्र में बालिकाओं को बराबर का हक दिया जाता है लेकिन समाज में उनकी सुरक्षा के लिए अभी बहुत कुछ किया जाना शेष है।

भले ही बालिकाओं के साथ होने वाले अपराधों के खिलाफ कई कानून बनाए जा चुके हैं और ‘सेव द गर्ल चाइल्ड’ जैसे अभियान चलाए जा रहे हैं, फिर भी समाज में बालिकाओं के खिलाफ होने वाले अपराधों का सिलसिला कम होने के बजाय लगातार बढ़ रहा है। जिस प्रकार देशभर में बच्चियों और किशोरियों के साथ छेड़खानी, दुर्व्यवहार तथा बलात्कार के मामलों में निरन्तर बढ़ोतरी हो रही है, ऐसे में काफी चिंताजनक तस्वीर उभरती है। आंकड़े देखें तो संयुक्त राष्ट्र जनसंख्या कोष की एक रिपोर्ट के मुताबिक 2013 से 2017 के बीच दुनियाभर में लिंग चयन के जरिये 14.2 करोड़ को जन्म लेने से पहले ही कोख में ही मार दिया गया, जिनमें 4.6 करोड़ ऐसी भ्रूण हत्याएं कड़े कानूनों के बावजूद भारत में हुई। लिंगानुपात के मामले में स्थिति में कुछ सुधार अवश्य हुआ है, फिर भी केरल को छोड़कर अन्य राज्यों में स्थिति अभी भी संतोषजनक नहीं है।

ऐसा नहीं है कि आजादी के बाद से बालिकाओं की स्थिति में कोई सुधार नहीं हुआ। फिर भी यह सच है कि उन्हें स्वयं को साबित करने के लिए बालकों के मुकाबले ज्यादा संघर्ष का सामना करना पड़ता है। एनसीआरबी के मुताबिक बालिका दिवस शुरू करने के बाद वर्ष 2009 में महिलाओं के प्रति अत्याचारों में 4.05 फीसदी, 2010 में 4.79, 2011 में 7.05, 2012 में 6.83 फीसदी की वृद्धि हुई और उसके बाद भी अत्याचारों का यह सिलसिला कम होने की बजाय लगातार बढ़ता गया है। विभिन्न रिपोर्टों से यह तथ्य भी सामने आते रहे हैं कि देश में हर 16 मिनट में एक बलात्कार होता है, प्रतिदिन औसतन 77 मामले शारीरिक शोषण के दर्ज होते हैं और करीब 70 फीसदी महिलाएं घरेलू हिंसा की शिकार हैं।

2021 में तो महिलाओं के प्रति अपराधों में 63 फीसदी तक की वृद्धि दर्ज हुई। बालिकाओं की तस्करी के मामलों में भी तेजी से बढ़ोतरी हो रही है। शायद कोई दिन ऐसा नहीं बीतता, जब मासूस बच्चियों के साथ भी बलात्कार जैसी खबरें सुनने को नहीं मिलती हों। कुछ मामलों में तो दरिंदों द्वारा बलात्कार के बाद मासूम बच्चियों को जान से मार दिया जाता है।

बहरहाल, बालिका दिवस मनाए जाने की सार्थकता तभी होगी, जब बालिकाओं के प्रति होते भेदभाव के अलावा उनके प्रति समाज का दृष्टिकोण बदलने के भी गंभीर प्रयास हों और समाज में उन्हें भयमुक्त वातावरण प्रदान करने के लिए गंभीरता से कदम उठाए जाएं। आज भी कन्या भ्रूण हत्या से लेकर लैंगिक असमानता और यौन शोषण तक बालिकाओं से जुड़ी समस्याओं की कोई कमी नहीं है। लैंगिक भेदभाव समाज में आज भी एक बड़ी समस्या है, जिसका सामना बालिकाओं या महिलाओं को जीवनभर करना पड़ता है।

बालिका दिवस जैसे आयोजनों की सार्थकता तभी होगी, जब न केवल बालिकाओं को उनके अधिकार प्राप्त हों बल्कि समाज में प्रत्येक बालिका को उचित मान-सम्मान भी मिले। समाज में यह सोच विकसित करने की दरकार है कि यही बालिकाएं न केवल हमारा बेहतरीन आज हैं बल्कि देश का सुनहरा भविष्य भी हैं।

(लेखक वरिष्ठ पत्रकार हैं )

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here