उत्तर प्रदेश चुनाव : मेरठ शहर सीट पर गुरु ‘लक्ष्मीकांत’ की विरासत संभालेंगे ‘कमलदत्त’

90

मेरठ : आखिरकार भाजपा ने विधानसभा सीटों के टिकटों की घोषणा कर दी। मेरठ जनपद में भाजपा ने दो विधायकों के टिकट काटकर दो नए चेहरों पर दांव लगाया है। मेरठ कैंट सीट से सत्यप्रकाश अग्रवाल का टिकट काटकर पूर्व विधायक अमित अग्रवाल को प्रत्याशी बनाया है जबकि सिवालखास सीट से विधायक जितेंद्र सतवई की जगह जिला सहकारी बैंक के चेयरमैन मनिंदरपाल सिंह को उम्मीदवार बनाया है। मेरठ शहर सीट से पूर्व मंत्री लक्ष्मीकांत बाजपेयी के स्थान पर उनके राजनीतिक शिष्य कमलदत्त शर्मा को प्रत्याशी घोषित किया है।

Advertisement

भाजपा ने मेरठ शहर की चुनौतीपूर्ण सीट पर पूर्व मंत्री और पूर्व प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मीकांत बाजपेयी को टिकट नहीं दिया है। लक्ष्मीकांत की जगह उनके राजनीतिक शिष्य कमलदत्त शर्मा को प्रत्याशी घोषित किया है। 2017 के चुनाव में समाजवादी पार्टी के रफीक अंसारी ने भाजपा के लक्ष्मीकांत बाजपेयी को हरा दिया था। इस बार शुरू से ही लक्ष्मीकांत ने खुद ही चुनाव नहीं लड़ने की इच्छा जताई थी। अधिक आयु होने के कारण भाजपा ने मेरठ कैंट विधायक सत्यप्रकाश अग्रवाल का टिकट काटकर पूर्व विधायक अमित अग्रवाल को प्रत्याशी घोषित किया है। इससे पहले अमित अग्रवाल इस सीट से दो बार विधायक रह चुके हैं। सिवालखास सीट से विधायक जितेंद्र सतवई का टिकट काटकर भाजपा ने मनिंदर पाल सिंह को प्रत्याशी बनाया है। मनिंदर पाल सिंह इस समय जिला सहकारी बैंक के चेयरमैन हैं।

सरधना सीट से भाजपा ने विधायक संगीत सोम को तीसरी बार टिकट दिया है। हस्तिनापुर सुरक्षित सीट से भाजपा ने जलशक्ति राज्य मंत्री दिनेश खटीक को फिर से अपना प्रत्याशी घोषित किया। मेरठ दक्षिण सीट से विधायक डॉ. सोमेंद्र तोमर और किठौर सीट से विधायक सत्यवीर त्यागी पर भाजपा ने फिर से दांव खेला है।

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here