सीकर (राजस्थान) : एकादशी मेले पर खाटूश्याम मंदिर में सोमवार की सुबह मची भगदड़ में तीन दर्शनार्थी महिलाओं की मौत हो गई और चार अन्य घायल हो गए। बाबा श्याम के दर्शन करने पहुंचे कतारबद्ध लाखों श्रद्धालुओं के आपा खोने से यह हादसा हुआ।

Advertisement

प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक करीब 10 किलोमीटर की घुमावदार रेलिंग के बाद बाबा श्याम दरबार के अहाते में एक-दूसरे से सटे श्रद्धालु पट खुलने के साथ एक साथ दर्शनार्थी बढ़ने का प्रयास करने लगे। इस दौरान धक्का- मुक्की के बीच मची भगदड़ में एक महिला बेहोश होकर गिर गई। हादसे में तीन महिला श्रद्धालुओं की मृत्यु हो गई तथा चार अन्य घायल हो गए।

सूचना पर पहुंची खाटूथाना पुलिस ने कतारबद्ध श्रद्धालुओं को रोक कर हालात पर काबू पाया। शवों को खाटू के राजकीय चिकित्सालय की मॉर्चरी में रखवाया और घायलों को भर्ती कराया। हादसे के करीब तीन घंटे बाद खाटू दरबार के दर्शन के लिए पट दोबारा खोले गए। जिला कलेक्टर अविचल चतुर्वेदी सहित जिले के प्रशासनिक अधिकारी हालात का जायजा लेने पहुंचे।

जिला कलेक्टर ने व्यवस्था में रही कोताही की जांच कराने एवं सुधार करने का भरोसा जताया है। पुलिस अधीक्षक कुंवर राष्ट्रदीप ने बताया कि मेलास्थल पर लगे सीसीटीवी की सीडीआर से जानकारी जुटाई जा रही है। यहां के सुरक्षाकर्मियों से भी पूछताछ की जा रही है।

इस बीच मृतकों में एक महिला की पहचान शांति देवी के रूप में हुई है। दो अन्य मृत महिलाओं की पहचान के प्रयास किए जा रहे है। घायलों में 50 वर्षीय शिवचरण, 40 वर्षीय मनोहर, हरियाणा के करनाल की 55 वर्षीया इंदिरा देवी, अलवर की 40 वर्षीया अनोजी देवी को अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

दर्शनार्थियों का आरोप है कि यह हादसा सुरक्षाकर्मियों की लापरवाही से हुआ। रेलिंग को खोलकर मंदिर के अहाते में क्षमता से अधिक श्रद्धालुओं को घुसने दिया गया। इससे धक्कामुक्की के बाद भगदड़ मच गई। उल्लेखनीय है कि एकादशी के पावन दिन करीब 5 लाख श्यामभक्त दर्शन करने पहुंचते हैं। मंदिर कमेटी फाल्गुनी मेले के दौरान 24 घंटे दर्शन की सुविधा प्रदान करती है। शेष दिन श्यामबाबा के दर्शन के लिए पट बंद करने की समय सीमा तय होती है।

हादसे पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने दुख जताया है। प्रधानमंत्री मोदी ने लिखा है कि खाटूश्यामजी में भगदड़ में श्रद्धालुओं की मौत से दुखी हूं। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने हादसे पर दुख जाहिर किया है। उन्होंने लिखा कि हादसे में मारी गईं तीनों महिलाओं के परिजनों के साथ उनकी संवेदनाएं हैं। उन्होंने घायलों की जल्द स्वस्थ होने की कामना की है।

उल्लेखनीय है कि खाटूश्याम जी के मासिक मेले में लाखों श्रद्धालु पहुंचते हैं। पट बंद होने के कारण श्रद्धालुओं की कई किलोमीटर की लाइन लग जाती है। हर महीने दो बार एकादशी तिथि पर खाटूश्यामजी के दर्शन के लिए लाखों लोग उमड़ते हैं। ऐसा अनुमान है कि हर एकादशी पर राजस्थान समेत अन्य प्रदेशों से 5 लाख से ज्यादा लोग दर्शन के लिए आते हैं। एकादशी पर खाटूश्याम जी के दर्शन का विशेष महत्व माना जाता है।

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here