श्रीलंका : राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे ने फिर किया इमरजेंसी का ऐलान

151

कोलंबो : आर्थिक संकट से जूझ रहे श्रीलंका में एक बार फिर से इमरजेंसी का ऐलान कर दिया गया है। यह ऐलान राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे ने जनता के भारी विरोध के बीच शुक्रवार की रात को किया।

Advertisement

इससे पहले शुक्रवार की सुबह पुलिस ने श्रीलंका की संसद में घुसने की कोशिश कर रहे छात्रों पर आंसू गैस के गोले दागे थे और पानी की बौछार की थी। दूसरी तरफ श्रीलंका के कई व्यापारिक संगठनों ने सरकार के इस्तीफे की मांग करते हुए हड़ताल शुरू कर दी है।

इस बीच श्रीलंका में पिछले एक महीने से जारी आर्थिक संकट कम होने के बजाय लगातार बढ़ता ही जा रहा है। देश में खाने-पीने के सामान और दवाइयों की भयंकर कमी है। दूसरी तरफ देश के पास पेट्रोल तक खरीदने के पैसे नहीं हैं। सरकार का विदेशी खजाना खाली हो चुका है। श्रीलंका के 22 करोड़ लोगों के लिए हालात बेहद बदतर हो गए हैं। लोग सरकार के खिलाफ सड़कों पर उतर गए हैं। जनता सरकार पर आर्थिक संकट से निपटने में नाकाम रहने का आरोप लगाते हुए इस्तीफे की मांग कर रही है। वर्ष 1948 में आजादी के बाद से श्रीलंका अपने सबसे बुरे दौर से गुजर रहा है। संसद की तरफ जाने वाली सड़क पर हजारों की संख्या में छात्र एकत्रित हैं।

छात्रों के एक समूह ने श्रीलंका की संसद में घुसने की कोशिश की थी। इस दौरान पुलिस ने उन पर आंसू गैस के गोले दागे और वॉटर कैनन से पानी की बौछार कर भीड़ को तितर-बितर करने की कोशिश की। इस दौरान भीड़ पुलिस बैरिकेडिंग के ही पीछे छिप गई जिससे पुलिस को पीछे हटना पड़ा।

इससे पहले गुरुवार को भी पुलिस ने संसद मार्ग से भीड़ को हटाने के लिए इसी तरह आंसू गैस के गोले और पानी की बौछार की थी, लेकिन गुरुवार को भी पुलिस को कामयाबी नहीं मिली थी।

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here