बैंकों के निजीकरण को लेकर केंद्र के खिलाफ मुखर हुए रंतिदेव

236

कोलकाता : भारतीय जनता पार्टी के नेता रंतिदेव सेनगुप्ता ने बैंकों के निजीकरण के खिलाफ आवाज उठाते हुए केंद्र सरकार की आलोचना की है। शनिवार को एक फेसबुक पोस्ट में रंतिदेव सेनगुप्ता ने बैंकिंग सेक्टर के निजीकरण को लेकर केंद्र सरकार पर जमकर निशाना साधा। केंद्र सरकार के अलावा रांतिदेव ने पोस्ट में देश के सबसे बड़े औद्योगिक समूहों में से एक अंबानी और अदानी के नामों का भी जिक्र किया। उन्होंने लिखा, “मतदान के दौरान अडानी-अंबानी लाइन में खड़े हुए और वोट डाला और हम भी लाइन में खड़े होकर वोट करते हैं।”

Advertisement

रंतिदेव ने फेसबुक पोस्ट में लिखा, ” देश की आम जनता जीवन भर बैंकों में पैसे जमा करती है और अपने अरमान पूरे करने का ख्वाब देखती है। उस जनता का भारत अडानी, अंबानी, टाटा या गोयनका के भारत से अलग है। भारत में महीने के अंत में, हमें यह सोचना होगा कि घरेलू खर्चों में कटौती करके दैनिक जरूरतों को कैसे पूरा किया जाए। आम लोग भारत में छोटे-छोटे सुख-दुख के साथ रहते हैं।

हालांकि, अदानी, अंबानी, टाटा, गोयनका और आम जनता में एक बात समान है। भारत के इस महान लोकतांत्रिक राज्य में अडानी, अंबानी, टाटा, गोयनका जैसे हम सभी को वोट देने का अधिकार है। पांच साल बाद जैसे वे वोटिंग लाइन में खड़े होकर वोट करते हैं, वैसे ही हम भी करते हैं। लेकिन साल भर सरकारें इनके दरवाजे पर खड़ी रहती हैं। लगातार बैंकों के ब्याज घटाए जा रहे हैं। निजीकरण की कोशिश हो रही है जो सरासर गलत है।”

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here