लिटरेरिया 2021 का आयोजन 16 दिसंबर से

211
संवाददाताओं से बातचीत करते संस्था के अध्यक्ष यतीश कुमार। साथ में हैं सचिव ऋतेश कुमार एवं उपसचिव आनंद गुप्ता।

कोलकाता : नीलांबर संस्था द्वारा लिटरेरिया के पांचवे संस्करण का आयोजन 16 दिसंबर से 18 दिसंबर 2021 के बीच होने जा रहा है । नीलांबर का यह वार्षिकोत्सव है जिसका प्रमुख लक्ष्य देश भर के कवियों, लेखकों, आलोचकों, नाटककारों एवं कलाकारों को एक मंच पर इकट्ठा करके साहित्यिक माहौल बनाना है ।

Advertisement

पहले दिन का आरम्भ प्रबुद्ध बनर्जी, शुद्धेंदु हलदर एवं मृत्युंजय कुमार सिंह के गायन से होगा। इस दिन ‘स्वप्न, प्रेम और त्रासदी’ विषय को केंद्र में रख कर आयोजित सेमिनार में वक्ता के रूप में अशोक वाजपेयी, अरुण कमल, निवेदिता मेनन, विजय चोरमारे, नवरस जे. अफ्रीदी, यतींद्र मिश्र और आशुतोष भारद्वाज अपनी बात रखेंगे I दिन के अंत में फणीश्वरनाथ रेणु की कहानी ‘संवदिया’ पर इसी नाम से नीलांबर द्वारा तैयार फिल्म दिखाई जाएगी। इस फिल्म का निर्देशन ऋतेश कुमार ने किया है।

दूसरे दिन की शुरुआत कवीश सेठ के गायन से होगी । तदुपरांत यशपाल के उपन्यास ‘झूठा सच’ पर आयोजित संवाद सत्र में हिस्सा लेंगे प्रियंकर पालीवाल, गीता दुबे और आशीष मिश्र I इस दिन का दूसरा संवाद सत्र धर्मवीर भारती के काव्य नाटक ‘अंधा युग’ पर केंद्रित होगा। जिसमें हिस्सा लेंगे सुशील सुमन, विवेक सिंह और बसंत त्रिपाठी। इस दिन का मुख्य आकर्षण देश भर से आये कवियों का कविता पाठ होगा जिसमें अपनी कविताओं का पाठ करेंगे अरुण कमल, श्रीप्रकाश शुक्ल, नरेंद्र पुंडरीक, सुतपा सेनगुप्ता, सुशीला पुरी, प्रदीप सैनी, अरुणाभ सौरभ, जोशना बनर्जी आडवाणी और अणु शक्ति सिंहI दिन के अंत में नीलांबर की टीम द्वारा संजीव की कहानी पर आधारित नाटक ‘ झूठी है तेतरी दादी की कहानी’ का मंचन किया जाएगा। नाटक का निर्देशन ऋतेश कुमार ने किया है।

तीसरे दिन का आरंभ ‘बांग्ला डॉट कॉम’ की टीम द्वारा बाउल गीतों की प्रस्तुति के साथ होगा । इस दिन तीसरे संवाद सत्र में मन्नू भंडारी के उपन्यास ‘महाभोज’ पर चर्चा के लिए उपस्थित रहेंगे आशुतोष, इतु सिंह एवं राहुल सिंह। इसके बाद चौथा संवाद सत्र उदय प्रकाश की कहानी मोहनदास पर केंद्रित होगा। इस संवाद सत्र में संजीव कुमार, राकेश बिहारी, विनय मिश्र और प्रियंका साह हिस्सा लेंगी I इस दिन कविता सत्र -2 में हिस्सा लेने वाले कवियों में शामिल हैं आर चेतनक्रांति, कृष्ण मोहन झा, विजय चोरमारे, लीना मल्होत्रा, वंदना टेटे, पीयूष दईया, कविता कादंबरी और अंकिता शाम्भवी ।

समापन सत्र में गीत-संगीत, नृत्य एवं कविता कोलाज की प्रस्तुति की जाएगी। इस अवसर पर ‘निनाद सम्मान’ अपराजिता शर्मा एवं ‘रवि दवे सम्मान’ चेतना जालान को दिया जाएगा। अंत में विनय शर्मा द्वारा निर्देशित एवं कुलभूषण खरबंदा, चेतना जालान, अनुभा फतेहपुरिया एवं कल्पना झा अभिनीत नाटक ‘आत्मकथा’ का मंचन होगा।

यह जानकारी आज प्रेस क्लब, कोलकाता में नीलाम्बर संस्था द्वारा आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस के माध्यम से दी गयी जहाँ संस्था के अध्यक्ष यतीश कुमार, सचिव ऋतेश कुमार एवं उपसचिव आनंद गुप्ता मौजूद थे।

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here