कोलकाता : द इंस्टिट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया (आईसीएआई) का दो दीवसीय वार्षिक दीक्षांत समारोह की शुरुआत बुधवार को महानगर स्थित कला मंदिर में हुई। इस कार्यक्रम में गेस्ट ऑफ ऑनर आईसीएआई के पूर्व अध्यक्ष सीए सुबोध अग्रवाल रहे। कार्यक्रम की शुरुआत दीप प्रज्ज्वलन कार्यक्रम के साथ हुई।

Advertisement

इस दौरान सीए सुबोध अग्रवाल के साथ आईसीएआई के सेंट्रल काउंसिल मेंबर सीए रंजीत कुमार अग्रवाल, आईसीएआई के आईसीएआई के सेंट्रल काउंसिल मेंबर सीए सुशील कुमार गोयल, आईसीएआई के उपाध्यक्ष सीए(डॉ.) देबाशीष मित्रा व ईआईआरसी के चेयरमैन सीए सुनील कुमार साहू मौजूद थे।

इस मौके पर सीए सुबोध अग्रवाल ने भविष्य के चार्टर्ड अकाउंटेंट्स का हौसला बढ़ाते हुए कहा कि आने वाले समय में वे अपने सामने लक्ष्य निर्धारित करें और एक-एक पायदान की तरह उस लक्ष्य की ओर बढ़ते जाएँ। पहला पायदान थोड़ा मुश्किल जरूर होगा लेकिन जैसे ही उस पायदान तक पहुँच जाएँगे, आगे के पायदान उतने ही आसान होते जाएंगे। उन्होंने यह भी कहा कि जीवन के हर क्षेत्र में बदलाव हो रहे हैं और बेहद तेजी से हो रहे हैं। चार्टर्ड अकाउंटेंट्स के कार्य क्षेत्र में भी बदलाव हो रहे हैं इसलिए जो बदलाव को जितनी जल्दी अपना लेगा, उसके लिए रास्ता उतना ही ज्यादा आसान हो जाएगा।

सीए(डॉ.) देबाशीष मित्रा ने कहा कि आईसीएआई एक ग्लोबल संस्थान है। भारत के अलावा इसके 46 ओवरसीज चैप्टर मौजूद हैं। विश्व के 67 शहरों में आईसीएआई की मौजूदगी है। उन्होंने यह भी कहा कि आईसीएआई की ओर से रैकिंग पूरी तरह से छात्र के प्रदर्शन के आधार पर किया जाता है। परीक्षा प्रणाली पूरी तरह से डीजीटाइज्ड है। आईसीएआई में पूरे भारत में कुल 7.5 लाख विद्यार्थी हैं, जिनमें से 44% छात्राएँ हैं।

 

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here