इतिहास के पन्नों मेंः 05 मई – ‘ढब्बू जी’ के सर्जक

163

बिना रुके सबसे लंबे समय करीब 30 वर्षों तक प्रत्येक सप्ताह प्रकाशित हुए मशहूर कार्टून करैक्टर ‘ढब्बू जी’ अपने दौर का सबसे पसंदीदा था। ‘धर्मयुग’ में प्रकाशित होने वाले इस कार्टून श्रृंखला के रचयिता थे आबिद सुरती।

Advertisement

राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता साहित्यकार, कार्टूनिस्ट, पर्यावरणविद् के रूप में प्रतिष्ठित आबिद सुरती का जन्म 05 मई 1935 को गुजरात के राजुला के पास वबेरा में हुआ। आगे चलकर उनका परिवार मुंबई आ गया, जहां डोंगरी इलाके में आबिद सुरती पले-बढ़े।

वैसे तो आबिद सुरती ‘ढब्बू जी’ जैसे कार्टून के लिए मशहूर हुए लेकिन उन्होंने बच्चों के लिए भी काफी कुछ रचा है। इंद्रजाल कॉमिक्स में ‘बहादुर’, ‘इंस्पेक्टर आजाद’, ‘इंस्पेक्टर विक्रम’ और ‘शूजा’ जैसे उनके कार्टून इतने लोकप्रिय हुए कि मशहूर फिल्मकार राजकपूर ने एक बार ‘इंस्पेक्टर आजाद’ पर फिल्म बनाने का भी मन बना लिया था, हालांकि बात आगे नहीं बढ़ी। बाल पत्रिका ‘पराग’ के लिए भी आबिद सुरती ने कार्टून बनाए।

आबिद सुरती कार्टूनिस्ट के साथ-साथ प्रख्यात रचनाकार भी हैं जिन्होंने लघु कथाओं से लेकर यात्रा वृतांत तक लिखा। 1993 में लघुकथा संकलन ‘तीसरी आंख’ के लिए उन्हें राष्ट्रीय पुरस्कार मिला। वे रुढ़ियों पर कड़ा प्रहार करने के लिए जाने जाते हैं।

इतना ही नहीं वे अभी भी बेहद सक्रियता के साथ मुंबई में जल संरक्षण के लिए सप्ताह में एक दिन स्वयं जागरुकता मुहिम चला रहे हैं। वन मैन आर्मी आबिद सुरती ने ‘ड्रॉप डेड’ नामक फाउंडेशन की स्थापना की और वे मुंबई के मीरा रोड इलाके में प्रत्येक रविवार को एक प्लंबर साथ लेकर लोगों के घरों में जाते हैं और लीक हो रहे वाटर टैप को मुफ्त में ठीक कराते हैं। नलों में लगे रबर गैस्केट रिंग भी बदलवाते हैं ताकि पानी लीक होकर बर्बाद न हो। बताते हैं कि काफी समय से चल रहे इस अभियान के जरिये उन्होंने लाखों लीटर पानी बचाया।

अन्य अहम घटनाएंः

1818ः जर्मन दार्शनिक व विचारक कार्ल मार्क्स का जन्म।

1831ः फ्रांस के सैन्य अधिकारी व राजनेता नेपोलियन बोनापार्ट का निधन।

1916ः पूर्व राष्ट्रपति ज्ञानी जैल सिंह का जन्म।

1937ः परमवीर चक्र से सम्मानित मेजर होशियार सिंह का जन्म।

1954ः हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर का जन्म।

2017ः महिला न्यायाधीश लीला सेठ का निधन।

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here