– मोदी ने कहा- अब 5जी का जमाना, 4जी यानी साइकिल और 5जी यानी विमान

Advertisement

– भरुच के नेत्रंग में मोदी की सभा, आदिवासियों के विकास के कामों को गिनाया

अहमदाबाद : प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि दुनिया बदल रही है, लोगों को बुनियादी सुविधाओं के साथ अब मोबाइल चाहिए। इसलिए केन्द्र सरकार डिजिटल इंडिया के मिशन को लेकर चला है। इसका उद्देश्य सभी को डिजिटल माध्यम में सशक्त बनाना है। भारत में मोबाइल डाटा दुनिया के देशों से सस्ता है। इसके कारण लोगों को बड़ी मात्रा में रोजगार मिल रहे हैं। देश में चार लाख कॉमन सेंटर इसका उदाहरण है।

रविवार को नरेन्द्र मोदी गुजरात विधानसभा चुनाव में भरुच जिले के नेत्रंग में विजय संकल्प सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। मोदी ने कहा कि मोबाइल का उपयोग चिकित्सा के क्षेत्र में होने लगा है, लोग मोबाइल के जरिए शहरों के बड़े चिकित्सकों से घर बैठे इलाज करा रहे हैं। मोदी ने कहा कि अब तो 5जी आ गया है। 4जी और 5जी का अंतर एक साइकिल तो दूसरा विमान के समान है। उन्होंने आदिवासी समाज और उनके विस्तार वाले क्षेत्रों में किए गए कामों को भी गिनाया। उन्होंने देश की प्रथम आदिवासी महिला को राष्ट्रपति बनने से रोकने के लिए कांग्रेस की आलोचना की।

मोदी ने कहा कि कांग्रेस ने आदिवासी का सम्मान नहीं किया, लेकिन उन्होंने आदिवासी समाज के प्रेरणास्रोत गोविंद गुरु आदि के सम्मान के लिए काम किए। बिरसा मुंडा की जयंती पर देश में जनजाति गौरव दिवस के रूप मनाने का निर्णय किया। मोदी ने कहा कि अंग्रेज के जमाने से आदिवासियों को वन में बांस की खेती करने से रोका जाता था। उन्होंने इस कानून को खत्म कराया, जिससे आदिवासी वनों में बांस की खेती कर आय अर्जित करने में सफल हुए हैं।

जनधन के साथ वन धन खाते खुलवाए

मोदी ने कहा कि उन्होंने आदिवासी क्षेत्रों में जनधन के साथ ही वन धन अकाउंट खुलवाए। इससे जंगल में पैदा होने वाली 90 चीजों को सरकार अधिकतम मूल्य देकर खरीदती है। कांग्रेस के लोग ठेकेदारी करते थे, भाजपा के लोग सेवा करते हैं।

मातृभाषा में डॉक्टर-इंजीनियरिंग की पढ़ाई

भाजपा के संकल्प पत्र पर मोदी ने कहा कि यह व्यापक और सर्वस्पर्शी है, जो गुजरात को विकसित होने की दिशा में आगे लेकर बढ़ता दिखाई दे रहा है। उन्होंने लोगों से कहा कि संकल्प पत्र इतना स्पष्ट है कि इससे भाजपा और भी अधिक मतों से जीतने जा रही है। मोदी ने कहा कि 75 साल तक कांग्रेस को यह नहीं सुझा कि डॉक्टर और इंजीनियरिंग की पढ़ाई भी देश की मातृभाषा में होनी चाहिए। उन्होंने इस पर काम करना शुरू कर दिया है। अधिकारियों को दौड़ाना शुरू किया है, वहीं भ्रष्टाचार को बिल्कुल बंद कराया है।

देश में तीन करोड़ गरीबों को मिले आवास

पीएम आवास योजना का उल्लेख कर प्रधानमंत्री ने कहा कि पहले सरकार तय करती थी कि लोगों का घर कैसा होना चाहिए, लेकिन अब जिसे घर में रहना है, वह तय करता है कि उसका घर कैसा होगा। मोदी ने बताया कि अब तक देश में इस योजना के तहत 3 करोड़ घर बन गए, जो फुटपाथ और झोपड़ी में रहते थे, उनका घर बना है। उन्होंने कहा कि गुजरात में 10 लाख पक्के मकान बन गया। 7 लाख लोगों ने दिवाली अपने घर में मनाई। आदिवासी पट्टे में 10 हजार घर बन गए।

कोरोना में तीन साल से 80 करेाड़ लोगों को मुफ्त अनाज

कोरोना महामारी पर मोदी ने कहा कि इतने बड़े देश में इतनी बड़ी महामारी आई। उन्होंने गरीब के घर का चूल्हा नहीं बुझने दिया। कोई बच्चा भूखा नहीं सोए यह चिंता की। तीन साल से 80 करेाड़ लोगों को मुफ्त अनाज पहुंचाया गया। भरुच में साढ़े आठ लाख लोगों के घर में चूल्हा नहीं बुझने दिया। इसके बाद वैक्सीन की व्यवस्था की और लोगों की जिन्दगी बचाई। भाजपा सरकार ने एक साथ पूरे देश में वैक्सीन पहुंचाई।

दिल्ली से की आदिवासी बच्चे की चिंता

सभा में देर से पहुंचने का कारण बताते हुए नरेन्द्र मोदी ने कहा कि वे नेत्रंग के दो आदिवासी बच्चों से मिलने गए थे। इनमें एक अभि और दूसरा जय है। अभि कक्षा 6 और जय कक्षा 9 में पढ़ता है। दोनों भाइयों के माता-पिता छह साल पहले गुजर गए थे। आज से 6 साल पहले वे 8 और 2 साल के उम्र के थे। उनकी एक वीडियो मैंने देखी। इसके बाद सीआर पाटील को फोन कर इन बच्चों की चिंता करने की कही। उनके लिए घर बनवा दिए, पंखा, कम्प्यूटर आदि सभी सहूलियत दिलाई। आज जब उन बच्चों से मिला तो एक ने कहा कि उसे कलेक्टर बनना है तो दूसरे ने कहा कि उसे इंजीनियर बनना है। इन बच्चों के हौसले को देख उन्हें खुशी मिलती है।

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here